Wednesday, 31 August 2011

(BP 62) चोट दिल पे थी तो कलम मचल गयी

                              देश की जानी मानी पुलिस आफिसर
                       अन्ना के रंग ढंग  में ढल गयी
                       देशभक्ति के उन्माद में डूबी थी
                       भड़ास अभिनय बनकर निकल गयी
                       एक अभिनेता था   कब से व्यथित
                       ख़ामोशी की बर्फ जाने कब पिघल गयी  
                       देश भक्ति के उन्माद में तमाम बातें
                       फटे दिल से लावा  बन निकल गयीं
                      बात खादी ओढ़ने  वालों को खल गयी
                      खली क्या खादी सुलग  गयी जल गयी
                      संसद  में जबरदस्त बहस  चल  गयी
                     लेकिन ........................ 
                     जब सोते  बच्चे  को कार  कुचल गयी
                     जब नकली दवा नौनिहालों को निगल गयी
                    जब दरिंदगी अबला की जिन्दगी  बदल गयी
                     जब गुमशुदा के लिए माँ की उम्र ढल गयी
                     जब  घोटालों की नाली नदी में बदल गयी
                   जब मासूम कली बिना खिले  ही फल गयी 
                   जब हिमालय की बर्फ धीरे धीरे गल गयी
                     जब पतित पावनी गंगा मैया उथल गयी
                     तब भी क्या खादी वालों को खल गयी?
                     तब भी क्या खादी सुलगी, क्या जल गयी
                     तब तो हर समस्या स्वतः सुलझ गयी
                     शोषिता की तस्वीर कैमरे से निकल गयी
                     खबर हेड लाइन और लाइन में बदल गयी
                    हर चैनल पर कई-कई बार चल  गयी
                    ना जाने कितनी बार  रूह झुलसी है
                   ना जाने कितनी बार बात  खल गयी
                   जुवान को मैंने फिसलने से रोक रखा है
                          पर चोट दिल पे थी तो कलम मचल गयी






डॉ आशुतोष मिश्र
निदेशक
आचार्य नरेन्द्र देव कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी
बभनान,गोंडा,उत्तरप्रदेश
मोबाइल न० 9839167801

19 comments:

  1. मन के भाव कब तक मर्यादा सहेंगे, कभी बह जाते हैं।

    ReplyDelete
  2. सच्चाई तो कड़वी होती ही है ....... गणेश चतुर्थी की बधाई

    ReplyDelete
  3. एक कडवा सच प्रस्तुत किया है…………शानदार अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. मिश्रा जी, बहुत सटीक व्यंग है। मैं आपके ब्लॉग से जुड़ गया हूँ।

    ReplyDelete
  5. ghazab dr.saheb. kitne jwalant mudde per kitni sateek tippadi.woh bhi itne udaharno k saath .waah.badhai..

    ReplyDelete
  6. ईद की सिवैन्याँ, तीज का प्रसाद |
    गजानन चतुर्थी, हमारी फ़रियाद ||
    आइये, घूम जाइए ||

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. सच को प्रतिबिम्बित करती बेहतरीन रचना...

    ReplyDelete
  8. bahut hi badhiya.....sabke dil bat apne kaha di

    ReplyDelete
  9. 'चोट दिल पे थी तो कलम मचल गयी'
    बहुत सुन्दर मिश्रा जी !
    क्षुब्ध मन की बातें कब तक दबी रहेंगी ?
    यथार्थ पर प्रभावी व्यंग जो करुणा के शीर्ष तक पहुँचाता है

    ReplyDelete
  10. great sir..... hats off to u.....
    bahut hi sundar, sacchai yahi hai aur yahi iss desh ki vidambana hai.

    ReplyDelete
  11. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    ReplyDelete
  12. “ये जज्बे जलते हुये, बन कर खड़े सवाल
    सबको अपनी ही पडी, बना रहे सब माल”

    सादर नमन इस जज्बे को...

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब लिखा है डा. साहब।
    खादी वालों को सैलेक्टिव चीजें\सैलेक्टिव लोग खलते हैं।

    ReplyDelete
  14. सच्चाई को बड़े ही सुन्दरता से शब्दों में पिरोया है आपने! बेहद ख़ूबसूरत और शानदार रचना!

    ReplyDelete
  15. Aah ! Kaisi sacchai kah dali aapne.. bahut hi jabardast dhang se aapne apne dil ki bhadaas nikli hai Mishra Ji.. Aapki lekhni ko salaam karta hun....

    ReplyDelete
  16. sir aap ek achche kavi hai, isliye CHOT DIL PE THI TO KALAM MACHAL GAYI...........lekin aam janta ki bhi chot jo dil me thi vo juba pe aagayi..................tabhi to sare desh me naara gooja

    ...........MAI BHI ANNA TU BHI ANNA
    AB TO SAARA DESH HAI ANNA

    ReplyDelete
  17. Vah mishr ji kya khoob likha hai
    ना जाने कितनी बार बात खल गयी
    जुवान को मैंने फिसलने से रोक रखा पर चोट दिल पे थी तो कलम मचल गयी
    badhi .
    mere naye post pr apka swagat hai.

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में