Tuesday, 18 October 2011

(A1/44) क्या करूँ मैं ?

क्या करूँ मैं ?

जिंदगी में
सीधे सच्चे पथों पे
चलते चलते
जब मिल जाता है
कभी-कभी कोई ऐसा
जो , जमा देता है ,
दो भरपूर तमाचे
दोनों गालों  पे
या
कर जाता है बरसात
गलियों की,
चलते -फिरते , रुकते बैठते
और कभी कभी
जब पार हो जाती हैं
ईशा, गाँधी और कृष्ण की सीमाएं
तब हमेशा ही,
सामने  आ जाता है
समतल और उबड़- खाबड़
दो पथों में बंटता,
दोराहा.....
और , सोचने लगता है
बरबस ही मन
क्या करूँ.?
क्या करूँ मैं?
सहसा तभी
मिल जाता है उत्तर..
की छोड़ा जा सकता है उसे..
व्यक्तिगत सीमाओं के अतिक्रमण तक
किन्तु जब ,
अतिक्रमित होने लगे
मातृभूमि की सीमा
उजड़ने लगे वन
नष्ट होने लगें
जीवा-जाती -प्रजाति
सजल हो जाएँ
माँ के नयन
तब श्रेयस्कर है
मिटा देना उसे
देश द्रोही को छोड़ देना
पाप है, महापाप है






school लाइफ poem  










.


डॉ आशुतोष मिश्र
आचार्य नरेन्द्र देव कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी
बभनान, गोंडा, उत्तरप्रदेश
मोबाइल न०.9839167801



19 comments:

  1. परित्राणाय साधूनाम...

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति,बधाई!

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. अच्छी प्रस्तुति ... विचारणीय

    ReplyDelete
  5. अति सुन्दर ,आभार.

    ReplyDelete
  6. मानसिक द्वन्द का उत्तर तलाशती रचना!
    बढ़िया निष्कर्ष है!

    ReplyDelete
  7. अच्छी विचारणीय प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर और विचारणीय अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  9. आशुतोषजी,आपकी पोस्ट पर पहली आया,इस सुंदर प्रस्तुति,\क्या करू मै\के लिए बधाई....

    ReplyDelete
  10. विचारणीय और सार्थक अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  11. Very nice..
    Revolutionary creation..
    Regards...

    ReplyDelete
  12. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  13. सुंदर रचना .... !
    हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  14. देश द्रोही को छोड़ देना
    पाप है, महापाप है

    राष्ट्र प्रेम दर्शाती सुंदर कविता .....

    ReplyDelete
  15. bahut hi badhiya rachna... badhai...

    ReplyDelete
  16. सुन्दर प्रस्तुति...

    आपको धनतेरस और दीपावली की हार्दिक दिल से शुभकामनाएं
    MADHUR VAANI
    MITRA-MADHUR
    BINDAAS_BAATEN

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में