Monday, 1 August 2011

(A2/1) ये तुम्हारी पलकें हैं या हैं पिटारी जादू की



blog se transfer 
ये तुम्हारी पलकें हैं
या हैं पिटारी जादू की
ये उठें  तो जाने कितने झुक गए
ये झुकें तो जाने कितने लुट गए
ये झुकी हैं या उठी हैं खैर है
जब उठीं हैं झुक के कितने उठ गये


ये तुम्हारी पलकें हैं
या हैं पिटारी जादू की
ये उठें  तो जाने कितने झुक गए
ये झुकें तो जाने कितने लुट गए
ये झुकी हैं या उठी हैं खैर है
जब उठीं हैं झुक के कितने उठ गये

डॉ आशुतोष मिश्र
आचार्य नरेन्द्र देव कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी
बभनान,गोंडा, उत्तरप्रदेश
मोबाइल न० 9839167801 

24 comments:

  1. बहुत सुन्दर्।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही खास .....

    ReplyDelete
  3. Beautiful as always.
    It is pleasure reading your poems.

    ReplyDelete
  4. 50 फोल्लोवेर्स की बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
  7. आपकी उत्साहवर्धक टिप्पणी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    बहुत बढ़िया लिखा है आपने ! लाजवाब प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति महोदय ||

    बधाई स्वीकार करें ||

    ReplyDelete
  9. bhaut bhaut sunder... ye apki rachna ya jaadu hai...

    ReplyDelete
  10. बहुत खूबसूरत क्या बात है

    ReplyDelete
  11. 'जब उठी हैं झुक के कितने उठ गए '
    ............वाह मिश्रा जी, क्या कहना !

    ReplyDelete
  12. word - searching or searching is word ,or both are searching one together . brilliant description. thank you ji .

    ReplyDelete
  13. vaah vaah gajab ka sher.bahut achcha.

    ReplyDelete
  14. आंखों पर बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  15. भावनाओं का बहुत सुंदर चित्रण . ...बधाई.


    कृपया मेरे ब्लॉग
    http://ghazalyatra.blogspot.com/
    पर visit कर मेरी नई गज़ल पढ़ने की अनुकम्पा करें.
    आपका स्वागत है !

    ReplyDelete
  16. सुन्दर लेखन की बधाई....
    समय मिलने पर आरंभन आयें
    http://aarambhan.blogspot.com

    ReplyDelete
  17. बहुत खूब लिखा है| मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  18. bahut khoob palkon ke uthne aur jhukne pr kamal likha hai
    rachana

    ReplyDelete
  19. kuch hi sbdo me itani badi bat
    bahut achi

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में