Monday, 5 September 2011

(A2/2) फिर बन लावा बहना होगा

भ्रस्टाचार  उन्मूलन  आन्दोलन  के  दौरान  जन  भावना  और  सरकार की  कूटनीति  को  उकेरती  रचना


a2 se transfer 
पहले  ज्वालामुखी   हो  जाओ
फिर  सोना  है  तो  सो  जाओ
अंतर  का  लावा  पिघलाओ
अपने  अन्दर  आग   जलाओ
सौम्य  दिखो  बाहर  से  जितना
पर  न  निज  मकसद  बिसराओ
परिवर्तन  की राह  कठिन है
अभी  दूर  अपनी  मंजिल  है
स्वप्न  तिरोहित  न हो जाएँ  
खुशी- खुशी ये  ना खो  जायें  
गिरगिट  जैसा  रंग  बदलते
नहीं  भरोसा  शैतानो  का
गुल, गुलदस्ता, चमन  हमारा
नहीं किसी  भी  बेगाने  का 
राहे -ए -मंजिल   पर  ये खुशियाँ  
कभी- कभी  भरमा  जाती  है
चाहत  का वो  चाँद  दूर रख  
तारों   से बहला  जाती हैं  
एक  बार   जिस  तरह  जुड़े  हम
बार- बार  जुड़ना  होगा
एक इशारा  मिलते  ही  बस  
नींद    तोड़    जगना  होगा
एक जाग्रत  ज्वालमुखी सा  
फिर बन  लावा बहना   होगा   

डॉ आशुतोष मिश्र
आचार्य नरेन्द्र देव कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी
बभनान,गोंडा,उत्तरप्रदेश
मोबाइल नो 9839167801
A2/2
Blog mein transfer

पहले  ज्वालामुखी   हो  जाओ
फिर  सोना  है  तो  सो  जाओ
अंतर  का  लावा  पिघलाओ
अपने  अन्दर  आग   जलाओ
सौम्य  दिखो  बाहर  से  जितना
पर    निज  मकसद  बिसराओ
परिवर्तन  की राह  कठिन है
अभी  दूर  अपनी  मंजिल  है
स्वप्न  तिरोहित   हो जाएँ  
खुशीखुशी ये  ना खो  जायें  
गिरगिट  जैसा  रंग  बदलते
नहीं  भरोसा  शैतानो  का
गुलगुलदस्ताचमन  हमारा
नहीं किसी  भी  बेगाने  का 
राहे - -मंजिल   पर  ये खुशियाँ  
कभीकभी  भरमा  जाती  है
चाहत  का वो  चाँद  दूर रख  
तारों   से बहला  जाती हैं  
एक  बार   जिस  तरह  जुड़े  हम
बारबार  जुड़ना  होगा
एक इशारा  मिलते  ही  बस  
नींद    तोड़    जगना  होगा
एक जाग्रत  ज्वालमुखी सा  
फिर बन  लावा बहना   होगा   

19 comments:

  1. sachmuch....lava ban kar bahane se hi naee duniyaa ka nirmaan hoga, chetana jagegi. prerak vicharon ke liye badhai...

    ReplyDelete
  2. गुल, गुलदस्ता, चमन हमारा
    नहीं किसी भी बेगाने का.
    बहुत ही शानदार सर. ये सोच ही आगे बढ़ा सकती है सुधार की सतत प्रक्रिया को. वाह वाह

    ReplyDelete
  3. Very nice creation Mishra Ji... Congrats for this fabulous creation and regard for comment on my blog's creation... Please come again...

    ReplyDelete
  4. सही दिशा निर्देश देती अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. एक इशारा मिलते ही बस
    नींद तोड़ जगना होगा
    एक जाग्रत ज्वालमुखी सा
    फिर बन लावा बहना होगा....

    Very inspiring and motivating creation...

    .

    ReplyDelete
  6. जोश जगाती..प्रेरणा देती रचना के लिए आपको शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  7. सुन्दर भावनात्मक कविता !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर भाव और अर्थ की बेहद सार्थक प्रेरक रचना .बधाई !
    बुधवार, ७ सितम्बर २०११
    किस्मत वालों को मिलती है "तिहाड़".

    ReplyDelete
  9. प्रेरणा देती एक सार्थक रचना।

    ReplyDelete
  10. सौम्य दिखो बाहर से जितना
    पर न निज मकसद बिसराओ
    wow,quite motivating.

    ReplyDelete
  11. bahut hi bhavmai.josh se bhari shaandaar rachanaa.badhaai aako.mere blog per aane ke liye shukriyaa.meri nai post aapke tipaddi ke intajaar main hai.

    ReplyDelete
  12. "पहले ज्वालामुखी हो जाओ ,फिर सोना है तो सो जाओ" - बेहतरीन आह्वाहन

    ReplyDelete
  13. जीवन्त विचारों की बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
  14. आपकी पोस्ट आज "ब्लोगर्स मीट वीकली" के मंच पर प्रस्तुत की गई है /आप आयें और अपने विचारों से हमें अवगत कराएँ /आप हमेशा ऐसे ही अच्छी और ज्ञान से भरपूर रचनाएँ लिखते रहें यही कामना है /आप ब्लोगर्स मीट वीकली (८)के मंच पर सादर आमंत्रित हैं /जरुर पधारें /

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में