Sunday, 25 December 2011

(A/36) जंगल बेदना

जंगल बेदना 


सदय होने का मिला परिणाम क्या
मनु को बचाने का मिला प्रतिदान क्या
आध्यात्म फूला-फला  जिसकी गोद में
वो जल रहा है क्यों स्वयं अब क्रोध में
क्यूँ कुपित न हो उजाड़ा जब उसे
दोष मनु पुत्रों का देगा फिर किसे
गैर न मानी मनु संतति कभी
सैंकड़ों पर पुत्र उसके और भी
मौन तरु जो झूमते मस्ती में अपने
चट्टाने पाहन चूमती , लहराती तटिनी
गर्जना, चिंघाड़ उसके लाडलों की
चौकड़ी मासूम से मृग दलों की
झर-झराते सैंकड़ों झरने भी अल्हड 
बन झाड़ियाँ झर्बेरियां कैसे सुघड़
ढलती निशा में उंघते जंगल
रात सारी गूंजते जंगल
अपनी धुन हैं गीत भी संगीत  भी
दुर्गम किला, राजा, प्रजा, मंत्री सभी 
मनुज को दी प्राण बायु, फल- फूल भी
बृष्टि की बूंदे भी, कंद मूल भी
सोचते मनु पुत्र पर क्या? राम जाने!
जंगलों ने तो दिए अनुपम खजाने
किन्तु  क्यों बिष घोलते मनु पुत्र अब
मारते निज स्वार्थ बश वन पुत्र अब
साम्राज्य जंगल का सिमटता जा रहा है
सीने में पर्वत के अब बम फट रहे हैं
चट्टानों  पर भी बरसते सतत घन
बेदना करते बयां अब मूक पाहन
मनु पुत्र अपनी श्रेष्ठता दिखला  रहा है
सच! मौत का ही जाल बुनता जा रहा है
नित्य आयेंगे भूकंप होंगे भूस्खलन
ललकारेंगी   तटिनी, चट्टानें रौद्र पाहन
उम्मीद न कर ए मनु अब शान्ति की
आग तूने ही लगाई क्रान्ति की
मायने ना जीत के न हार के
इतराने का परिणाम खुद ही देख लो
भूकंप, गर्मी, बाढ़ कुछ तो सोच लो
अब भी समय है -हे मनु कुछ जान लो
प्रकृति की शक्ति जरा पहचान लो
क्योंकि सबने भूल की ऐसा नहीं है
बोये सबने शूल भी ऐसा नहीं है
मनु के सदय जो पुत्र हैं; वो मान लें
पागलों को मारना हैं ठान लें
संधि का सन्देश लेके स्वयं जाएँ
नंगे गिरि को बस्त्र पहनाएं
अतिक्रमित साम्राज्य जब हम बापस करेंगे
हम भी  हँसेंगे   और जंगल भी हँसेंगे  हसेंगे





कॉलेज जीवन के कृति




डॉ आशुतोष मिश्र
निदेशक
आचार्य नरेन्द्र देव कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी
बभनान, गोंडा, 9839167801



















14 comments:

  1. मंगल को जंगल कर डाला....

    ReplyDelete
  2. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 26-12-2011 को सोमवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  3. बढ़िया संदेश देती रचना।

    ReplyDelete
  4. अब भी मानव सुधर जाए ... सार्थक सन्देश देती अच्छी रचना

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    Gyan Darpan
    ..

    ReplyDelete
  6. अतिक्रमित साम्राज्य जब हम बापस करेंग
    हम भी हँसेंगे और जंगल भी हँसेंगे हसेंगे बहुत सुन्दर मिश्र जी वर्तमान परिवेश के लिए एक सार्थक रचना .... आभार |

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर सन्देश देती रचना,...अच्छी प्रस्तुती,
    क्रिसमस की बहुत२ शुभकामनाए.....

    मेरे पोस्ट के लिए--"काव्यान्जलि"--बेटी और पेड़-- मे click करे

    ReplyDelete
  8. जंगल के प्रति आपकी चिंता जायज है मगर यह इन्सान समझता ही नहीं सार्थक पोस्ट आभार

    ReplyDelete
  9. बहुत ही खूबसूरत प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  10. सार्थक सन्देश देती सुन्दर रचना...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  11. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-741:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  12. सुन्दर सन्देश देती रचना.

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत प्रस्तुति।

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में