Sunday, 6 May 2018

(OB 119) हम तो बस आपकी राह चलते रहे


२१२ २१२  २१२  २१२
हम तो बस आपकी राह चलते रहे
ये ख़बर ही न थी आप छलते रहे
बादलों से निकल चाँद ने ये कहा
भीड़ में तारों की हम तो जलते रहे
हिम पिघलती हिमालय पे ज्यों धूप  में
यूँ हसीं प्यार पाकर पिघलते रहे
चांदनी भाती , आशिक हूँ मैं चाँद का 
सच कहूं तो दिए मुझको  खलते रहे
जुल्फ की छांव में उनके जानो पे सर
याद करके वो मंजर मचलते रहे
एक दूजे को हम ऐसे देखा किये
अश्क आँखों से रुख पर फिसलते रहे
जिस तरह आसमां से है सूरज ढले 
हुस्न भी हुस्न वालों के ढलते रहे 
हमसफ़र है हसीं इसलिए दोस्तों
पाँव में छाले पर आशू चलते रहे
डॉ आशुतोष मिश्र आचार्य नरेन्द्र देव कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी बभनान गोंडा उत्तर प्रदेश 9839167801

1 comment:

  1. helpnewbusiness.blogspot.com
    20 से 30 हजार लगाकर कमाए 3 से 4 हजार रोजाना अधिक जानकारी के लिए विजिट करें।

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में