Saturday, 26 May 2012

(BP 47) वतन के हर सच्चे सिपाही को हैं हवालातें


रंग--तस्वीरें अभी वही हैं,हैं वही बातें 
अमन--चैन से कटती नहीं अभी रातें 

दल बदल जाते उसूलात  बदलते ही नहीं  
 कोई महफूज़ रहे कैसे, चारसू लगीं घातें

लहू जिसका बहा है स्वेद बन के खेतों में
मोती पैदा किये,अश्कों की मिलीं सौगातें

स्वेद से तर-बतर रहा है जो रात--दिन
उसके जेहन में भी बचपन की हसीं बरसातें

होती  हैवानों, दरिंदों की ताजपोशी  यहाँ
वतन के हर सच्चे सिपाही को हैं हवालातें

मिटेगा "आशु ",मिटेंगे उसके नक़्शे कदम  
वतन की राह पे मुमकिन हों मुलाकातें  





डॉ आशुतोष  मिश्र 
आचार्य  नरेन्द्र  देव कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी 
बभनान, गोंडा, उत्तरप्रदेश
मोबाइल नो 9839167801
         
A2/16

2122 1122 1122 22,,112 कोई तस्वीर न बदली हैं न बदलीं बातें आज भी चैनो अमन से नहीं कटती  रातें रंग-ओ-तस्वीरें अभी वही हैं,हैं वही बातें  अमन-ओ-चैन से कटती नहीं अभी रातें   दल बदल जाते उसूलात  बदलते ही नहीं   कोई महफूज नहीं चारों तरफ हैं घातें  कोई महफूज़ रहे कैसेचारसू लगीं घातें खून जिसका है पसीने सा बहा खेतों में मो ती पैदा करें अश्को की मिलें सौगातें लहू जिसका बहा है स्वेद बन के खेतों में मोती पैदा किये,अश्कों की मिलीं सौगातें  रातों दिन जिसके बदन से है पसीना बहता याद आती उसे भी होंगी हसीं बरसातें स्वेद से तर-बतर रहा है जो रात-ओ-दिन उसके जेहन में भी बचपन की हसीं बरसातें ताजपोशी तो दरिंदो की यहाँ होती है  होती  हैवानोंदरिंदों की ताजपोशी  यहाँ वतन के हर सच्चे सिपाही को हैं हवालातें हर सिपाही जो है सच्चा को हवालातें हैं  आशू के साथ मिटे नक़्शे कदम भी उसके राख बन बिखरा जहा चाहो मुलाकाते हैं  मिटेगा "आशु ",मिटेंगे उसके नक़्शे कदम   वतन की राह पे मुमकिन न हों मुलाकातें 

18 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. aaderneey shastri jee..sadar pranaam..nirantar mere utsah vardhan aaur meri rachna ko charcha manch me shamil karne ke liye hardik dhnywad

      Delete
  2. स्वेद से तर-बतर रहा है जो रात-ओ-दिन
    उसके जेहन में भी बचपन की हसीं बरसातें
    जेहन तो बचपन की ओर ही भागता है
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. aapke ye utsahvardhak shabd meri rachnatmak urja hain

      Delete
  3. वाह...सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही प्रभावी व अर्थभरी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  5. होती हैवानों, दरिंदों की ताजपोशी यहाँ
    वतन के हर सच्चे सिपाही को हैं हवालातें.... किसको खबर थी , यकीन था कि ऐसे भी दिन आयेंगे ! जीना भी मुश्किल होगा और मरने भी ना पाएंगे

    ReplyDelete
  6. Very nice post.....
    Aabhar!

    ReplyDelete
  7. होती हैवानों, दरिंदों की ताजपोशी यहाँ
    वतन के हर सच्चे सिपाही को हैं हवालातें

    बहुत सही कहा आपने।
    खूबसूरत गजल।

    ReplyDelete
  8. होती हैवानों, दरिंदों की ताजपोशी यहाँ
    वतन के हर सच्चे सिपाही को हैं हवालातें

    यही है आज की जिंदगी का सच । बेहद प्रभावी गज़ल ।

    ReplyDelete
  9. दल बदल जाते उसूलात बदलते ही नहीं
    कोई महफूज़ रहे कैसे, चारसू लगीं घातें ...

    waah ! Great creation Dr Mishra.

    .

    ReplyDelete
  10. वाह...!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  11. उम्दा भाव से लेकर शब्द संयोजन..बेहतरीन..

    ReplyDelete

लिखिए अपनी भाषा में